नीतिश सरकार का बड़ा फैसला, लौटने वालों के लिए बनाएंगे कैंप, कोरोना का होगा चेकअप

कोरोना के मद्देनजर देश भऱ में लॉकडाउन के बावजूद दिल्ली आदि शहरों से बिहारियों के लौटने की संख्या बढ़ती ही जा रही है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दूसरे राज्यों से बिहार आ रहे प्रवासी मजदूरों के रहने के लिए कैंप बनाने के निर्देश दिए हैं. ये कैंप बिहार के सीमावर्ती जिलों में बनाए जाएंगे. यहां पर दूसरे राज्यों से आने वाले मजदूरों को रखा जाएगा. इस कैंप में मजदूरों के भोजन-कपड़े और डॉक्टरी जांच की सुविधा होगी.

बनाए जाएंगे आपदा शिविर

शनिवार को राज्य के अधिकारियों के साथ एक उच्चस्तरीय बैठक में सीएम नीतीश कुमार ने मुख्य सचिव दीपक कुमार को ‘आपदा सीमा राहत शिविर’ बनाने के निर्देश दिए. ये शिविर नेपाल, झारखंड, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल से सटे जिलों में बनाए जाएंगे.

Read Also :  ऑड-ईवन का फंडा, सुप्रीम कोर्ट भी समझ ना पाया

नीतीश कुमार ने अफसरों को कहा कि इन कैंपों में खाने और सोने के अलावा लोगों को मेडिकल सुविधाएं भी दी जाएंगी. सीएम नीतीश कुमार ने राज्य में कोरोना वायरस से निपटने के लिए गठित फंड में विधायक निधि से 7 करोड़ रुपये देने का ऐलान किया है.

बता दें कि देश में लॉकडाउन की घोषणा के बाद बड़ी संख्या में देश के कोने-कोने में फैले बिहार के कामगार हर हाल में अपने राज्य लौटना चाहते हैं. लेकिन लॉकडाउन होने की वजह से इनके सामने आवागमन की समस्या है.

शनिवार को दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर हजारों मजदूर अपने घरों को जाने के लिए उमड़ पड़े थे. इससे यहां अव्यवस्था की स्थिति पैदा हो गई थी. इनमें से कुछ मजदूर यूपी जाना चाह रहे थे तो कुछ मजदूर बिहार चाह रहे थे.

Read Also :  गांधी परिवार के आस पास अब नहीं होगा SPG घेरा, मिलेगी जे़ड प्लस सुरक्षा

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने इन मजदूरों को भेजने के लिए बसों की व्यवस्था की थी. लेकिन सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि अगर इन मजदूरों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजा गया तो लॉकडाउन का मकसद ही खत्म हो जाएगा.