कनाडा में सिख वोटरों की ताकत का नतीजा, जगमीत सिंह बनेेंगे किंगमेकर

Justin Trudeau and Jagjit Singh Canada Election


नई दिल्ली, हाल में हुए कनाडाई चुनावों में आप्रवासी सिखों कौम की मतदान की शक्ति की अहमियत उबर कर सामने आई है। जैसा कि हम जानते हैं कि कनाडा और भारत में 2 फीसदी सिख समुदाय के लोग हैं। हालांकि कनाडा में सिख समुदाय राजनीतिक प्रतिनिधित्व के मामले में भारत से भी आगे नजर आता है। कनाडा की संसद में 18 सिख सांसद हैं, जबकि भारत में यह आंकड़ा 13 का है। इनमें से 10 सांसद अकेले पंजाब से ही हैं।


पिछले दिनों हुए कनाडा के आम चुनाव में प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को बहुमत नहीं मिल सका है। इसके बाद भी ट्रूडो कुर्सी पर बने हुए हैं और उन्हें किंगमेकर माने जा रहे भारतीय मूल के जगमीत सिंह की पार्टी से समर्थन की उम्मीद है। कनाडा में सिख समुदाय की बड़ी आबादी बसी है और एक तरह से उनके नेता माने जा रहे जगमीत की सरकार गठन में बड़ी भूमिका हो सकती है। ट्रूडो की लिबरल पार्टी को 338 सदस्यीय सदन में महज 157 सीटें ही मिल सकी हैं, जबकि सरकार गठन का जादुई आंकड़ा 170 का है। कनाडा में चुने गए सिख सांसदों में से 13 जस्टिन ट्रूडो की लिबरल पार्टी के ही मेंबर हैं। इसके अलावा 4 कंजरवेटिव पार्टी के मेंबर हैं और एक सांसद जगमीत सिंह की पार्टी एनडीपी से चुना गया है।
ऐसे में ट्रूडो जगमीत सिंह की न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थन से सरकार बना सकते हैं। वामपंथी विचारधारा से प्रभावित जगमीत सिंह की पार्टी को इस चुनाव में 24 सीटें मिली हैं और वह किंगमेकर के तौर पर उभरे हैं। हालांकि इस बार उनकी पार्टी को भी बीते चुनाव के मुकाबले 20 सीटों का नुकसान उठाना पड़ा है। पिछले चुनाव में न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी के 44 सांसद चुने गए थे।
2017 में न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी के अध्यक्ष चुने गए जगमीत सिंह पेशे से क्रिमिनल डिफेंस लॉयर हैं। जस्टिन ट्रूडो और कंजरवेटिव लीडर एंड्रयू के खिलाफ राय रखने वाले लोगों ने उन्हें समर्थन किया था। भारतीय मूल के प्रवासी परिवार में ओंटारियो में जन्मे 40 वर्षीय जगमीत सिंह ने हाल ही में फैशन डिजाइनर गुरकिरण कौर से शादी की थी। कनाडा में उन्होंने भारतीय मूल के सिख समुदाय के अलावा अन्य वर्गों का भी समर्थन हासिल किया।
जस्टिन ट्रूडो की पार्टी के बहुमत से दूर रहने पर जगमीत ने कहा, ‘मुझे लगता है कि ट्रूडो जनमत का सम्मान करेंगे। फिलहाल सरकार अल्पमत में है और मुझे लगता है कि हमें साथ मिलकर काम करना होगा।’ उनके इस बयान से स्पष्ट था कि वह ट्रूडो के नेतृत्व वाली अल्पमत सरकार को समर्थन दे सकते हैं।
ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि जस्टिन ट्रूडो का अगला कदम क्या होगा। वैसे भी जस्टिन ट्रूडो सिख समुदाय के प्रति समय समय पर अपनी सद्भावना प्रदर्शित करते रहे हैं। कनाडा के सिख समुदाय में जस्टिन ट्रूडो का एक अपना फैन बेस है। जाहिर है पेशे से क्रिमिनल डिफेंस लॉयर जगमीत सिंह जस्टिन ट्रूडो को समर्थन देने में ज्यादा किताबी बातें नहीं करेंगे और जस्टिन ट्रूडो की सरकार बनाने के प्रति ग्रीन सिग्नल दे देंगे।