तुर्की एक खतरनाक मुल्क, सरकार ने जारी की अडवाइजरी

Turkey supports terrorism

नई दिल्ली,
कभी तुर्की बहुत खुबसूरत देश हुआ करता था, सूरत और सीरत दोनों लिहाज से। पर लगता है अब तुर्की की हवा में दिन ब दिन जहर घुलते जा रहा है। भारत से काफी बड़ी संख्या में पर्यटक वहां जाते रहे हैं। लेकिन पिछले कुछ सालों में वहां जाने वाले पर्यटकों की संख्या में काफी कमी आई है। इसकी सबसे बड़ी वजह है वहां बढ़ती मजहबी कट्टरता। इसकी वजह से भारत और तुर्की के बीच बढ़ता तनाव साफ नजर आ रहा है। पिछले दिनों यह तनाव तब और बढ़ गया जब प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत के जम्मू और कश्मीर से धारा 370 हटायी गई। तब तुर्की की सरकार ने पाकिस्तान के साथ सुर में सुर मिलाते हुए इसे गलत बताया था। एक बड़ी वजह यह भी है कि उत्तरी सीरिया में कुर्द ठिकानों पर हमले के कारण तुर्की में बहुत तनावपूर्ण हालात हैं। जिसकी भारत ने कड़ी आलोचना की है।


इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार की ओर से तुर्की की यात्रा करनेवाले भारतीयों के लिए अडवाइजरी जारी की गई है। सरकार ने सभी भारतीयों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने का निर्देश दिया है। केंद्र सरकार की ओर से जारी अडवाइजरी में तुर्की जानेवाले भारतीय नागरिकों से अतिरिक्त सुरक्षा बरतने का निर्देश दिया गया है।
तुर्की और भारत के कभी दोस्त थे पर अब नहीं
भारत और तुर्की के बीच लगातार बढ़ रहा तनाव साफ नजर आ रहा है। संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे पर तुर्की ने लगातार पाकिस्तान का साथ दिया, जिसके बाद भारत ने कठोरता से आंतरिक मामले से दूर रहने का संदेश दिया। हालांकि, पाकिस्तान के साथ तुर्की की दोस्ती यहीं खत्म नहीं हुई और उसने एफएटीएफ में भी पाकिस्तान का समर्थन किया। ऐसे में पाकिस्तान से तुर्की की नजदीकियां लगातार बढ़ रही हैं और भारत ने अंकारा से अपनी दूरी बरतने का संकेत दिया है।

Read Also :  पीएम मोदी का पीएमओ कर्मचारियों के साथ दिवाली मिलन, काम से दिखे खुश

पाकिस्तान से मिलकर परमाणु बम बनाने की अफवाह
तुर्की के राष्ट्रपति रिजेब तैय्यप अर्दोआन ने हाल ही में अपनी पार्टी की एक बैठक में कथित तौर पर तुर्की को न्यूक्लियर पावर बनाने की इच्छा जाहिर की है। इसके बाद से ही इस बात के कयास लगने लगे हैं कि क्या पाकिस्तान ने तुर्की को परमाणु तकनीक बेची है। अर्दोआन के बयान के बाद से वॉशिंगटन में हलचल तेज हो गई है। पाकिस्तानी तस्कर अब्दुल कादिर खान से तुर्की के लिंकहोने की भी खबर है।

Read Also :  महाराष्ट्र का सस्पेंस बरकरार, राष्ट्पति शासन के आसार

उत्तरी सीरिया पर तुर्की के हमले का भारत ने जतायी असहमति
अंतरराष्ट्रीय दबाव और युद्ध विराम पर सहमति जताने के बाद भी उत्तरी सीरिया में तुर्की का कुर्दों पर हमला जारी है। भारत ने कुर्दों पर तुर्की के हमले की निंदा करते हुए तत्काल इसे रोकने की मांग की थी। तुर्की और भारत के बीच इस मुद्दे को लेकर भी हाल में तनाव काफी बढ़ा है।

ऐसे में सरकार की बात मान लेने में ही भलाई है। तुर्की के हालात ऐसे हैं कि वहां जाना खतरे से खाली नहीं। दुनिया में सैर सपाटे के लिए एक से मुल्क है , यदि घूमना और मौज मस्ती ही करना उद्देश्य हो तो कहीं और किसी दूसरे सुरक्षित देश की यात्रा कर लें, पर तुर्की ना जाएं।