संसद सत्र से पहले सहयोगी दलों को मोदी देंगे सरप्राइज

PM MODI - AMIT SHAH AT BJP HEAD OFFICE DELHI

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री मोदी अपने कामों से मीडिया व अपने सहयोगियों को सरप्राइज देने के लिए भी जाने जाते हैं। खबर है कि प्रधानमंत्री मोदी, इस बार भाजपा के सहयोगी दलों के नेताओं को सरप्राइज देने का मूड बना चुके हैं। सूत्रों की खबर के अनुसार संसद के शीतकालीन सत्र से पहले मोदी कैबिनेट में पहला फेरदबल हो सकता है। पीएम मोदी अपनी कैबिनेट में नए चेहरों को जगह दे सकते हैं। इनमें अधिकतर सहयोगी दलों के मंत्री हो सकते हैं

हालांकि ऐसी मांग भाजपा के सहयोगी दल अरसे से करते रहे हैं। अब तक प्रधानमंत्री मोदी ने प्रतिनिधित्व के हिसाब से सबको खुश करने की भी कोशिश भी की है। नीतिश के नेतृत्व वाली जेडी यू, सरकार को बाहर से समर्थन देने की बात पर अड़ी रही थी। लेकिन अब लगता है कि कुछ माहौल बदला है। संसद के शीतकालीन सत्र से पहले मोदी कैबिनेट में पहला फेरदबल हो सकता है। सूत्रों के अनुसार, पीएम मोदी अपनी कैबिनेट में नए चेहरों को जगह दे सकते हैं। इनमें अधिकतर सहयोगी दलों के मंत्री हो सकते हैं। इस साल 30 मई को दोबारा कार्यभार संभालने के बाद जब प्रधानमंत्री ने अपनी टीम बनाई तो उसमें जेडीयू से कोई नहीं था। इसके अलावा शिवसेना को भी प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व मिला था।

  • सूत्रों के मुताबिक, संसद के शीतकालीन सत्र से पहले मोदी मंत्रिपरिषद में बदलाव संभव
  • जेडीयू के नेताओं को भी मिल सकती है जगह
  • मंत्रिपरिषद में सहयोगी दलों का बढ़ सकता है प्रतिनिधित्व,
  • दूसरे कार्यकाल में पहली बार बदलेंगे टीम
  • ससद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से शुरू होगा, 13 दिसंबर तक चलेगा
  • अभी मोदी मंत्रिपरिषद में नहीं शामिल है जेडीयू,
  • शिवसेना का भी है प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व
Read Also :  ज्यादा वजन और मोटे पेट वाले पुसिलकर्मियों की खैर नहीं, रिपोर्ट तलब

अब सहयोगियों के कोटे से कुछ और मंत्रियों को सरकार में शामिल किया जा सकता है। सूत्रों के मुताबिक, पीएम अपने दूसरे कार्यकाल में मंत्रियों के अब तक के काम की समीक्षा भी करेंगे। संभावित फेरबदल इसी के आधार पर होगा। संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से शुरू होकर 13 दिसंबर तक चलेगा।

Read Also :  दिल्ली की हवा बेहद खतरनाक स्तर पर, पीएमओ हुआ एक्टिव

सरकार ब्यूरोक्रेसी में भी करेगी बड़ा बदलाव
महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनावी रण के समाप्त होने के साथ मोदी सरकार ने ब्यूरोक्रेसी में बड़ा बदलाव किया है। मंगलवार को 11 सेक्रटरी सहित 22 सीनियर आईएएस अधिकारियों के तबादले हुए। पिछले कई महीनों से विवादों में रहे स्टाफ सिलेक्शन कमिशन में नया चेयरमैन नियुक्त किया गया है। अधिसूचना के तहत जम्मू-कश्मीर काडर के आईएएस ब्रज राज शर्मा को यह जिम्मेदारी मिली है।

बता दें कि परीक्षा में धांधली और कई तरह की शिकायतों को लेकर कमिशन स्टूडेंट्स के निशाने पर रहा है। इसके अलावा संजीव नंदन सहाय को नया पावर सेक्रटरी नियुक्त किया गया। एनएचएआई के चेयरमैन एन. एन. सिन्हा को बदल दिया गया है। उनकी जगह अभी किसी की नियुक्ति नहीं हुई है। सूत्रों के अनुसार आने वाले दिनों में कुछ और बदलाव होंगे। मोदी ने दूसरे कार्यकाल में पीएमओ की टीम नए सिरे से बनाई थी, लेकिन अब तक अहम मंत्रालयों के सेक्रटरी में बदलाव नहीं हुए थे।

समय के साथ साथ प्रधानमंत्री मोदी शासन के हर पहलू पर अपनी पकड़ मजबूत करने व गुड गवर्नेंस की दिशा में चलने की कोशिश कर रहे हैं, पर देश के सामने कई ऐसी समस्याएं है, जिन पर काबू पा कर ही प्रधानमंत्री मोदी की जनता के गुड गवर्नेंस के पैमानों पर खरे उतर सकेंगे।